Kavitaayein
revolution

मुझे प्यार चाहिए / Mujhe Pyaar Chahiye

हर सोम, मंगल, बुधवार चाहिए,
हो सके तोह करीब यार चाहिए,
पायाब भी चलेगा, ये उपहार चाहिए ,
थोड़ा दर्द को आराम, बेशुमार चाहिए,
प्यार चाहिए

वो बोलते हैं इश्क़ पाक अल्लाह की तरह,
वो बोलते हैं इश्क़ राम लल्ला की तरह,
वो बोलते हैं,
जो आज आंसू रोक दे, वो दीदार चाहिए,
किसी दूकान से मिले, वो इकरार चाहिए
मुझे प्यार चाहिए

रानी लक्ष्मी बाई की हुंकार चाहिए
भगत के इंक़लाब का इज़हार चाहिए
गाँधी के उसूल सा बरकरार चाहिए
मेरे वतन को आज थोड़ा, प्यार चाहिए

वो बोलते हैं इश्क़ बवासीर की तरह,
वो बोलते हैं इश्क़ है कश्मीर की तरह,
वो बोलते हैं,
जो खून खराबा छोड़ दे, वो सरकार चाहिए,
जो सरहदों को जोड़ दे, वो करार चाहिए
मुझे प्यार चाहिए

हर किसान को ज़िन्दगी उधार चाहिए
मजदूर को ध्याड़ी ऐतबार चाहिए
बच्चों को बचपन की झंकार चाहिए
और बहुत हुआ ये नेता ना गंवार चाहिए
बस प्यार चाहिए

वो बोलते हैं इश्क़ जय किसान की तरह
वो बोलते हैं इश्क़ जय जवान की तरह
वो बोलते हैं
क्या खेत की तुम्हें एक मज़ार चाहिए?
जो गरीब की सुन ले वो सरदार चाहिए
मुझे प्यार चाहिए

हर शुक्र, शनि, और इतवार चाहिए,
रूह को सुकून, हर बार चाहिए
इंसानियत अब से ना, लाचार चाहिए
और धर्म की तस्वीर पर एक हार चाहिए
ये प्यार चाहिए

वो बोलते हैं इश्क़ है रूमी की तरह,
वो बोलते हैं इश्क़ मातृभूमि की तरह,
वो बोलते हैं
मुझे मेरी रूह से तकरार चाहिए
और ज़िन्दगी की उलझनों का सार चाहिए
मुझे खुदसे थोड़ा प्यार चाहिए

Mujhe pyaar chahiye,

Har som, mangal, budhwaar chahiye,
Ho sake toh kareeb yaar chahiye,
Payab bhi chalega, ye uphaar chahiye,
Thoda dard ko araam, beshumaar chahiye,
Pyaar chahiye

Vo bolte hain ishq pak allah ki tarah,
Vo bolte hain ishq ram lalla ki tarah,
Vo bolte hain,
Jo aaj aansu rok de, vo deedaar chahiye,
Kisi dukaan se mile, vo ikraar chahiye
Mujhe pyaar chahiye

Rani Lakshmi bai ki hunkaar chahiye
Bhagat ke inqlaab ka izhaar chahiye
Gandhi ke usool sa barkaraar chahiye
Mere vatan ko aaj thoda, pyaar chahiye

Vo bolte hain ishq bawasir ki tarah,
Vo bolte hain ishq hai Kashmir ki tarah,
Vo bolte hain,
Jo khoon kharaba chhod de, vo sarkar chahiye,
Jo sarhado ko jod de, vo karaar chahiye
Mujhe pyaar chahiye

Har kisaan ko zindagi udhaar chahiye
majdoor ko dhyaadi eitbaar chahiye
Bachhon ko bachhpan ki jhankaar chahiye
Aur bahut hua ye neta na ganvaar chahiye
Bus pyaar चाहिए

Vo bolte hain ishq jai kisaan ki tarah
Vo bolte hain ishq jai javaan ki tarah
Vo bolte hain
Kya khet ki tumhe ek mazar chahiye?
Jo gareeb ki sun le vo sardar chahiye
Mujhe pyaar chahiye

Har shukr, shani, aur itvaar chahiye,
rooh ko sukoon, har bar chahiye
insaniyat ab se na, lachaar chahiye
Aur dharm ki tasveer par ek haar chahiye
Ye pyaar chahiye

Vo bolte hain ishq hai rumi ki tarah,
Vo bolte hain ishq matrbhumi ki tarah,
Vo bolte hain
Mujhe meri rooh se takraar chahiye
aur zindagi ki uljhano ka saar chahiye
Mujhe khudse thoda pyaar chahiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
LinkedIn
YouTube
YouTube