Kavitaayein
masaan

Janaza / जनाज़ा

Janaza

Sankli gali se nikal raha tha,
Dheeme dheeme, sikuda sa,
Saansein chal rahi hain lekin,
Kafan fata sa oda hai,
Koi aya nahi siski dene,
Itna kitna zeher bhara tha,
Shayad ye manhoos zara tha
Ye kaisa aaj janaza utha,
Na ram satya na muhammad salat
Na 4 aadmi ka kandha naseeb
Adharmi, raakshas, jin, shaitan
Lag raha hai sabse gareeb
Khud se khud ko ghaseet raha hai
Barsaat mein jaise kenchua koi
Sadne ki ab bu aari hai
Kuch kadam tak shayad nikal jaaye
Saans bhi iska saath chhodkar
Haddiyon ka bus dhaancha hai
Kala jala uljha sa dil
Ragad ragad ke nichod dia hai
Lahu bhi zehrila he hoga
Tabhi akela sa pada hai
Na lamba jiya, na achha jiya
Bojh zameen ka bach jaayega
Arey aansu nahi toh thookne aa jaate
Kam se kam hasne aa jaate
Dhutkaar ke dafna toh dete
Ruh ko thoda jala toh dete
Ab kya karu mere labzon ka
Qatl hua hai qatra qatra
Jala du ya dafna du
Ya parindo ko khila du ab
Aur ho sake toh inke sath
Mujhe bhi kaaga le jaana
Apne bachho ko hafte bhar
Ghosht mera tum khilana
Bus yaad rakhna ye dil aur dimaag
Kaafi rang mein maile hain
Alfaaz rasile, aankhein namm
Par baaki yaadein chhaile hain
Shayad teri dua lagegi
Ye mannat meri mann jaayegi
Saans jo ukhadi dard deti hai
Dheere se ye ruk jayegi
kutar lena kafan ko bhi tu
Zanaza fir ye mukammal hoga
Main na tha, na hun aur na rahunga
iss keechad laash par na kamal hoga

जनाज़ा

संकलि गली से निकल रहा था
धीमे धीमे सिकुड़ा सा
सांसें चल रही हैं लेकिन
कफ़न फटा सा ओड़ा है
कोई आया नहीं सिसकी देने
इतना कितना ज़हर भरा था
शायद ये मनहूस ज़रा था
ये कैसा आज जनाज़ा उठा
ना राम सत्य ना मुहम्मद सलत
ना 4 आदमी का कंधा नसीब
अधर्मी राक्षस जिन शैतान
लग रहा है सबसे गरीब
खुद से खुद को घसीट रहा है
बरसात में जैसे केंचुआ कोइ
सड़ने की अब बू आरी है
कुछ कदम तक शायद निकल जाए
सांस भी इसका साथ छोड़कर
हड्डियों का बस ढांचा है
काला जला उलझा सा दिल
रगड़ रगड़ के निचोड़ दिआ है
लहु भी ज़हरीला ही होगा
तभी अकेला सा पड़ा है
ना लम्बा जीया ना अच्छा जीया
बोझ ज़मीन का बच जाएगा
अरे आंसू नहीं तो थूकने आ जाते
कम से कम हँसने आ जाते
धुत्कार के दफ़ना तो देते
रूह को थोड़ा जला तो देते
अब क्या करुँ मेरे लब्ज़ों का
क़त्ल हुआ है क़तरा क़तरा
जला दूं या दफना दूं
या परिंदों को खिला दूं अब
और हो सके तोह इनके साथ
मुझे भी कागा ले जाना
अपने बच्चों को हफ्ते भर
गोश्त मेरा तुम खिलाना
बस याद रखना ये दिल और दिमाग
काफी रंग में मैले हैं
अलफ़ाज़ रसीले आँखें नम्म
पर बाकी यादें छैले हैँ
शायद तेरी दुआ लगेगी
ये मन्नत मेरी मन जायेगी
सांस जो उखड़ी दर्द देती है
धीरे से ये रुक जाएगी
कुतर लेना कफ़न को भी तू
ज़नाज़ा फिर ये मुकम्मल होगा
मैं न था ना हूँ और ना रहूँगा
इस कीचड लाश पर ना कमल होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
LinkedIn
YouTube
YouTube