Kavitaayein
Dalit Lives Matter

नकार दो / Nakar do

नकार दो

गांधी की पुकार को
भगत की हुंकार को
नकार दो
तुम आज संविधान को नकार दो
पन्नों पर नीली गाढ़ी स्याही के कुछ शब्द हैं
ख़ून से पहचान खुद की आज तुम छाप दो
नकार दो
काले पानी से तेरा लहु जो है काला हुआ
जनेऊ धारी चमड़ी को तुम आज वह पिला दो
नकार दो
ऐ दलित औरत तू आज अस्त्र को उठा ले और
मशाल को निगल जा तू शास्त्र के जला दे और
दिखा दे इस भगवे ब्राह्मण के करार को
नकार दो
ये धर्म को तिरंगे को कानून और समाज को
ये राम को रहीम को गीता और नमाज़ को
नकार दो
ये आज रक़्त कल का एक इंक़लाब लाएगा
हमारी अस्थियों से भी एक गुलाब आएगा
डहा दो तुम ये क़ातिल सरकार को
नकार दो

Nakaar do

Gandhi ki pukaar ko
Bhagat ki hunkaar ko
Nakar do
Tum aaj sanvidhaan ko nakar do
Panno par neeli gaadi syaahi ke kuch shabd hain
Khoon se pehchaan khud ki aaj tum chhaap do, Nakar do
Kaale paani se tera Jo khoon hai kala hua
Janeu dhaari chamdi ko tum aaj veh pila do,
Nakar do
Ae dalit aurat tu aaj astra ko utha le aur
Mashaal ko nigal ja tu shastra ko jala de aur
Dikha de iss bhagwe brahmin ke karar ko, nakar do
Ye dharm ko, tirenge ko, kanoon aur samaaj ko
Ye Ram ko, Rahim ko, Geeta aur namaaz ko
Nakar do
Ye aaj raqt kal ka ek inquilab laayega,
Hamaari asthiyo se bhi ek gulaab Aayega
Daha do tum ye qaatil sarkar ko
Nakar do

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
LinkedIn
YouTube
YouTube